What is VPN ? How to VPN works ? Virtual Private Network

What is VPN

VPN का पूरा नाम वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (Virtual Private Network) है।
तो चलिए आसान शब्दों में समजते है VPN क्या है या किसके लिए है? What is VPN(Virtual Private Network) ?

आज ज्यादातर लोग स्मार्ट फोन का उपयोग कर रहे है। और Without Internet आज के युग में कोई भी काम करना मुमकिन नहीं है। जाहिर सी बात है आपने किसी ना किसी कंपनी या ISP से इंटरनेट कनेक्शन लिया होगा।

What is ISP ?

ISP यानिकि ( Internet Service Provider) जैसे कि Jio , Vadodara, Idea , Airtel, BSNL.
तो आपने ISP से इंटरनेट कनेक्शन लिया होगा,वो चाहे कोई भी हो सकता है जैसे की Jio , Vadodara, Idea , Airtel, BSNL. और इसकी मदद से आप Internet access कर पाते है।

What is VPN ?

अब आप मान लो कि आपको Google.com search करना है,तो आप क्या करोगे (What do you do)? आप गूगल पे ही search करोगे। जैसे ही आप टाइप करके सर्च करोगे तो सबसे पहले जो Request है वो ISP के पास जाएगी यानिकि जो भी ISP(Internet Service Provider) जैसे की Jio , Vadodara, Idea , Airtel, BSNL उनको जाएगी।

तो अगर आप Jio का इंटरनेट उपयोग कर रहे हो तो जो request है , वो Jio के पास जाएगी। और उसके बाद ISP(Internet Service Provider) यानिकी Jio आपको Google.com के सर्वर तक पहुंचाएगा।

अब होता ऐसा है कि जो ISP(Internet Service Provider) है , जैसे की Jio , Vadodara, Idea , Airtel, BSNL ये लोग बीच में ब्लॉकिंग (Blocking) लगा सकते है। तो इससे होगा ऐसा की जैसे आप ने Google.com ओपन करते हो तो, आप access नहीं कर पाओगे क्युकी ब्लॉक करके रखा है।

तो Internet Service Provider आपकी जो request है वो Google.com के सर्वर (Server) तक जाने ही नहीं देगा।

तो यही सारी चीजे अक्सर हमारे कॉलेज के router में होती है। जैसे की आपने देखा होगा कॉलेज में भी यही होता है।कॉलेज वाले क्या करते है की जो अलग अलग टोरंट साइट (Torrent sites ) होती है उसको block कर देते है। यानिकि अगर आप कॉलेज में इंटरनेट उपयोग कर रहे हो तो जो data है वो आपके कॉलेज के बहार जा ही नहीं सकेगा।उसको बीच में ही block कर दिया जाता है।

ठीक उसी तरह सरकार (Government) भी जो बहुत सारी कॉपीराइट वेबसाइट्स(Copyright Websites) होती है, जहां से हम मूवी डाउनलोड (Movie Download) करते है, वो blocked कर देती है। सरकार इन ISP(Internet Service Provider) को बताती है कि, अगर कोई यह particular domain या IP की request आए तो तुरंत वहीं पे ही block कर देना है।

यहां आपको VPS मदद कर सकता है।तो सबसे पहले जानते है VPS होता क्या है? What is VPS (Virtual Private Server??)

VPS का पूरा नाम Virtual Private Server है। VPS एक सर्वर (Server) है। अब ध्यान से समजना।

हम कम्प्यूटर (Computer) में कुछ Configuration कर देते है जिससे क्या होगा की हमे Google.com पे जाना है तो वो data ISP(Internet Service Provider) तक जाता है । लेकिन अगर आप VPS(Virtual Private Server) उपयोग कर रहे हो तो, Google.com का जो डेटा है वो encrypt यानिकि एक कोड में रूपांतरित कर देता है।

इससे ऐसा होगा कि , जब आपका कम्प्यूटर (Computer) request भेजेगा Internet Service Provider को, तो उनको यानिकि जो Internet Service Provider है उनको लगेगा की आपको Google.com तक नहीं जाना है।

आपको वो VPS(Virtual Private Server) का सर्वर (Server) है वहा जाना है। अब हो सकता है सर्वर United States of America में हो , Australia , India या कोई भी जगह पे हो। मान लो कि सर्वर USA (United States of America) में है।तो होता यह है कि जब आपका कनेक्शन उनके Internet Service Provider तक जाएगा तो वो समजेंगे की आपको तो USA के सर्वर (Server) तक जाना है , आपको Google.com तक नहीं जाना है।

तो फिर आपको वो USA के सर्वर (Server) तक Router के ज़रिए पहुंचा देगा। अब यहां जो USA का सर्वर (Server) यानिकि VPS सर्वर है वो आपकी request है उसको ओपन करेगा और फिर उसको पता चलेगा कि आपको जाना है Google.com तक।

तो फिर वो वहां से आपका Google.com तक का कनेक्शन बनेगा। अब फायदे कि बात यह है कि ,जो सर्वर है वो है USA (United States of America) का , और जो कॉलेज की और से कई बार काफी सारी वेबसाइट्स ब्लॉक करके रखते है लेकिन वो ब्लॉक है सिर्फ हमारे India के दायरे में।तो इसलिए आप आराम से इंटरनेट एक्सेस (Internet Access) कर सकते हो।

तो VPN ऐसा करेगा कि ISP या Government को पता ही नहीं चलेगा कि आपने कनेक्शन कौन सी वेबसाइट से किया। क्युकी आपका कनेक्शन पहले वह सर्वर तक जाएगा।जिससे ISP(Internet Service Provider) को सिर्फ इतना पता होगा कि आपने वह सर्वर से कनेक्शन बनाया है।उसको यह नहीं पता चलेगा कि सर्वर ने कहीं और भी कनेक्शन बनाया है।

तो आप Google.com या कोई भी blog website ओपन करते हो VPS(Virtual Private Server) के माध्यम से ,तो यह कनेक्शन ISP के माध्यम से VPS सर्वर तक जाएगा और वो VPS सर्वर आपको लेके जाएगा जिस वेबसाइट पे आपको जाना है। फिर वो वेबसाइट जो रिप्लाइ करेगी वो सब से पहले आएगी VPS सर्वर तक , और फिर वो आप तक आयेगा। इससे आपके Internet Service Provider को लगेगा कि आप सिर्फ सर्वर से कनेक्शन कर रहे है।

अगर आप ऐसा सोचते ही कि में Hacking करू और में बच जाऊ अगर में VPS उपयोग में लू, जिससे जो IP address है वो तो सर्वर की जाएगी जिससे लगेगा की आप जो हो वो सर्वर हो । तो दोस्तो ध्यान रहे ऐसा बिल्कुल नहीं है। भले ही आपके ISP(Internet Service Provider) को नहीं पता कि आपने क्या visit किया था लेकिन वो सर्वर को तो मालूम होता ही है।

उसके पास भी कोई ना कोई ISP होगा जो USA का होगा, जिसको कनेंक्ट कर रहा होगा दूसरी वेबसाइट पे । उनके पास यह सब रिकॉर्ड होता है। तो आप पूरी तरह छुपा नहीं सकते अपने आप को। ज्यादातर Hackers बहुत सारे VPS उपयोग में लेते है।जिससे traffic एक सर्वर से दूसरे सर्वर तक जाए और यह पूरा अलग ही विषय बन जाता है।

हा अगर आप VPS(Virtual Private Server) उपयोग में ले रहे हो तो एक चीज आप कर सकते हो। Public Wi-Fi उपयोग कर रहे हो या फिर आपको ऐसी साइट ओपन करनी है जो india में बंद है ,तो आप VPS उपयोग में लेके वह सारी वेबसाइट access कर सकते हो।

यहां पे लोग ऐसा सोचते है की अगर आप VPS उपयोग में लेके सब कर रहे हो तो आपकी स्पीड बढ़ जाएगी।तो यह बात बिल्कुल ग़लत है। उदाहरण के तौर पे आपने Amazon.com सर्च किया तो पहले ISP आपको USA का कनेक्शन तक ले जाएगा और बाद में India के कनेक्शन तक लाएगा।तो इसका मतलब कितना लंबा घुमाके आपके सामने रिजल्ट दिखाई देगा।जिससे आपकी इंटरनेट स्पीड है वो कम हो जाएगी।

याद रहे दोस्तो आपको कभी भी Free VPS वाली application कभी भी डाउनलोड नहीं करनी चाहिए। इससे आपका डेटा उनको मिलता है। खास करके जब आप

VPS के माध्यम से Net banking जैसी सेवाएं कर रहे हो तब तो करना ही नहीं चाहिए। आप Paid VPS भी उपयोग में ले सकते हो लेकिन terms and conditions में लिखा होता है कि अगर Government data मांगती है  तो कंपनी Government को वो data प्रदान कर सकती है। तो गैरकानूनी काम करने की तो कोई गुंजाइश ही नहीं है।

Conclusion:

आशा रखता हूं आपको यह माहिती पसंद आयी होगी और कहीं ना कहीं पे आपको जरूर काम आए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *