What is FTP in Hindi and How does FTP Work 2020

What is FTP in Hindi and How does FTP Work 2020

तो दोस्तो क्या आपको मालूम है What is FTP in Hindi and How does it work? अगर नहीं पता है तो भी फिकर करने की कोई आश्यकता नहीं है। शुरू से लेके अंत तक जरूर पढ़ना क्युकी यहां में सबसे आसान शब्दों में समझाने वाला हूं की What is FTP in Hindi and How does FTP work

तो दोस्तो सबसे पहले जानते है 

What is FTP in Hindi

दोस्तो Full form of FTP फाइल ट्रान्सफर प्रोटोकॉल (File Transfer Protocol in Hindi) है। अगर आपको कोई भी File Transfer करनी हो वो भी एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर को, तो यहां FTP यानिकि File Transfer Protocol की आवश्यकता होती है।

FTP आप यू समझो एक प्रकार का set of rules ही है। जो एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर को जो फाइल ट्रान्सफर की जाती है उसके आधीन एक नियम सूचित करता है।

दोस्तो यहां में आपको बता दू अगर आप में से कोई वेबसाइट बनाना चाहते हो या फिर वेबसाइट बनाने जा रहे हो तो आपको What is FTP in Hindi के बारे में जानना काफी आवश्यक हैं।

अगर आप वेब डेवलपर (Web Developer) हो, और आपने कोई वेबसाइट बनाई है तो, आपको उस वेबसाइट की Files को सर्वर पर संग्रहित करना जरूरी बनता है।

कोई भी फाइल को अपलोड करना खास तौर पे कोई बड़ी फाइल को अपलोड करना, फाइल का नाम बदलना, फाइल में सुधार करना, फाइल को डाउनलोड करना, फाइल को कॉपी करना, फाइल को किसी और जगह पे मूव करना, फाइल को delete यानिकी निकाल देना आदि जैसा काम करने के लिए FTP का उपयोग आवश्यक बन जाता है।

तो दोस्तो यह तो आपने समझ लिया की What is FTP in Hindi लेकिन क्या आपको पता है की FTP काम कैसे करता है?
अगर नहीं मालूम तो कोई बात नई अब हम यही जानेंगे की How FTP works

How FTP works

देखो दोस्तो जो भी यह सिस्टम पे काम करना चाहता हो तो वह यूजर को अपने सिस्टम में FTP CLIENT INSTALL होना सबसे अधिक आवश्यक है।

उसके बाद दूसरी चीज यह की, कनेक्शन के लिए आपके पास User ID और Password होना जरूरी है।
अब दोस्तो फाइल ट्रांसफर करने के लिए FTP कुल मिलाकर 2 कनेक्शन का इस्तेमाल करता है।

  • 1) Control Connection
  • 2) Data Connection

तो सबसे पहले बात करते है Control Connection के बारे में।

1) Control Connection:

कनेक्शन को उपयोग में लेना यानिकि ओपन करना या बंद करना हो और साथ ही साथ सर्वर को कमांड भेजने के लिए  Control Connection का उपयोग में लेना आवश्यक है। अब बात करते है Data Connection के बारे में।

2) Data Connection :

नाम से ही पता चल जाता है। सफलतापूर्वक कनेक्शन हो जाने के बाद client यानिकि वेब ब्राउज़र और सर्वर के बीच फाइल का आदान प्रदान करने हेतु Data Connection की आवश्यकता है।
अब client यानिकि वेब ब्राउज़र के द्वारा कनेक्शन स्थापित किया जाता है।
कनेक्शन स्थापित हो जाने के बाद वेब ब्राउज़र के जरिए कमांड भेजे जाते है।
और वही कमांड के जरिए सर्वर पोर्ट नंबर पे डेटा डेटा कनेक्शन का आरंभ करता है जिससे जो भी माहिती या फाइल्स को भेजा जाता है।

वैसे दोस्तो FTP यानिकि File Transfer Protocol 2 पड़ाव या mode में काम कर सकता है।

  • 1) Active Mode
  • 2) Passive Mode

तो चलिए शुरआत करते Active Mode से।

1) Active Mode

 इस Mode पे Client या वेब ब्राउज़र पोर्ट नंबर (Port Number) का इस्तेमाल करके FTP सर्वर के Point 21 पर कनेक्ट होके कंट्रोल कनेक्शन को आसानी से ओपन कर सकता है।लेकिन ध्यान रहे दोस्तो, पोर्ट नंबर 1023 से ज्यादा का होना चाहिए।

इसके बाद वेब ब्राउज़र या client पोर्ट नंबर सर्वर को भेजता है।
जैसे ही client पोर्ट नंबर सर्वर को भेजता है, सर्वर पोर्ट 20 के जरिए client या वेब ब्राउज़र पर डेटा कनेक्शन जारी या access कर देता है।

अब बात करते है Passive Mode के बारे में।

2) Passive Mode 

यह mode पे भी किसी भी पोर्ट नंबर से client या वेब ब्राउज़र FTP सर्वर के पोर्ट 21 के जरिए कमांड कनेक्शन ओपन या access कर सकता है।

अब दोस्तो यहां होता ऐसा है की, जो FTP client है वो कमांड कनेक्शन का इस्तेमाल करके सर्वर को सीधा Passive कमांड जारी या भेजता है।

और उसके बाद FTP सर्वर FTP पोर्ट नंबर client को भेज देता है।
और जिससे होता ऐसा है की, client के पोर्ट नंबर और सर्वर के जरिए बताए गए पोर्ट नंबर के बीच अब डेटा कनेक्शन को ओपन कर दिया जाता है।

अब यह तो आपने जान लिया की What is FTP and How does it work? लेकिन अब में बताऊंगा आपको Advantages of FTP के बारे में यानिकि FTP के मुख्यरूप से फायदे क्या क्या है।

Advantages of FTP

सबसे बड़ा फायदा तो किसी फाइल्स को सबसे जल्दी भेजना हो तो FTP काफी फायदेमंद साबित होता है।
आप multiple directories को आसानी से FTP का इस्तेमाल करके एकसाथ भेज सकते हो।

मान लो फाइल को भेजते समय कनेक्शन तुट जाए तो परेशानी लेने की आवश्यकता बिल्कुल नहीं है। क्यों की आप बाद में भी प्रकिया कर सकते हो।

आप चाहो तो आपके समय के मुताबिक आप फाइल ट्रांसफर कर सकते हो यानिकि आप schedule भी कर सकते हो।
और यह तो सबसे जरूरी है और वो है बैकअप। उसके बिना तो काम भी आधा अधूरा लगता है।

अब बात करते है FTP के क्या क्या Disadvantage है?

Disadvantages of FTP

दोस्तो कोई भी चीज या फाइल जब हम किसीको कोई प्लेटफॉर्म के जरिए ट्रांसफर करते है तो सबसे पहले हम सिक्योरिटी को देखते है।

लेकिन यहां encryption की सुविधा FTP सर्वर प्रदान नहीं करता है जिससे फाइल ट्रांसफर करना सुरक्षित नहीं है।

मान लो आपने आपका पासवर्ड मजबूत नहीं रखा है तो हेकर brute force का इस्तेमाल करके पासवर्ड का कॉम्बिनेशन रच के आपका पासवर्ड बना देगे यानिकि guess कर लेंगे।

Read More –

Conclusion on What is FTP in Hindi and How does it work?

दोस्तो अगर आसान शब्दों में What is FTP के बारे में कहु तो आप आसानी से FTP माध्यम से एक साथ बड़ी फाइल्स भी ट्रांसफर कर सकते हो। लेकिन कोई भी फाइल्स,या डेटा FTP के माध्यम से भेजना सुरक्षित नहीं है।

उम्मीद करता हूं दोस्तो की, आपको यह What is FTP and How does it work वाला लेख आपको समझ में आ गया होगा।

हो सके तो आप यह लेख आगे जरूर से शेयर करे जिससे किसी को मददरूप हो सके।

2 Comments on “What is FTP in Hindi and How does FTP Work 2020”

  1. Really nicely explained of what is ftp topic dear sir/mam.. actually I cleared active mode concept.. Thanks for that 👍..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *